loading...

स्त्रियों की कामोत्तेजना कम होने के कुछ कारण

0

1. बहुत सी स्त्रियां जब यौवनावस्था में प्रवेश करती हैं तो उनके मन में यह धारणा बैठ जाती है कि सेक्स करना पाप है, यह एक गंदा कार्य है, इसके बारे में बात नहीं करनी चाहिए, इसको करते हुए मुझे कोई देख लेगा तो क्या कहेगा आदि। इस प्रकार की भावना सगे संबंधियों के द्वारा बचपन से ही बच्चों के दिमाग में बिठानी शुरू कर देते हैं। ये भावना ही समय के साथ-साथ लड़कियों के मन में बैठनी शुरू हो जाती है। ऐसी लड़कियों की जब शादी होती है तो वे अपने पति के साथ सेक्स क्रिया करने से कतराती हैं और इसका प्रभाव साफ से दिखाई पड़ता है। देखा जाए को इस प्रकार मन की भावना उस समय और भी तेज हो जाती है जब उसका पति सेक्स क्रिया करने के लिए छेड़-छाड़ करता है। वैसे देखा जाए तो आज के समय में इस प्रकार के कारण ठीक ढंग से दिखाई नहीं देते हैं क्योंकि समय तेजी के साथ बदल रहा है लेकिन आज भी बहुते से ऐसे परिवार हैं जो अपने बच्चे को सेक्स के बारे में इस प्रकार की शिक्षा देते हैं कि बेटा ये गंदी बात है, ऐसा मत करो, सेक्स गंदी बात होती है, इसे न करें आदि।
2. विवाह के बाद जब स्त्रियां पहली रात पति के साथ सेज पर होती हैं और आने वाले पल के बारे में सोचती हैं तो वह मन ही मन अधिक परेशानी महसूस करती हैं। उसके न कहने के बावजूद भी जब पति सेक्स क्रिया करने के लिए जबर्दस्ती करता है तो स्त्री को लगता है कि वह कोई पाप कर रही है, ऐसा करना नहीं चाहिए, यह गलत बात है। इस प्रकार की भावना मन में आते ही उसको काफी डर लगने लगता है जिसके कारण उसके शरीर की सारी गर्मी जो सेक्स क्रिया करने के लिए होनी चाहिए, वह कम होने लगती है और बिना किसी कारण से उसका सारा शरीर पुतले के समान हो जाता है और अपने शरीर को पति को समर्पण कर देती है। लेकिन सेक्स क्रिया में वह किसी प्रकार का सहयोग नहीं देती है। ऐसी स्त्रियों को न ही सेक्स का आनन्द और न ही उत्तेजना महसूस होती है। इस स्थिति में पति को पता चल जाता है कि उसकी पत्नी को यह समस्या है। इस समय यदि उसका पति उसका हल सही से निकाल देता है तो वह कुछ दिनों में ठीक हो जाती है नहीं तो उसकी यह समस्या बढ़ती जाती है।
3. बचपन के समय में ही कुछ लड़कियां ऐसी होती हैं जो किसी पुरुष को पसंद कर लेती हैं और यदि किसी कारण से उसका विवाह उस लड़के के साथ नहीं हो पाता, अर्थात मनचाहा पुरुष न मिल पाने के कारण से उसकी कामोत्तेजना कम होने लगती है। यह रोग उसे इसलिए होता है कि वह जिस पुरुष को दिलोजान से प्यार करती है तथा उसके साथ सातों जन्म जीने मरने का कसम खाती है, उसके साथ अपने भविष्य के सपने बुनती हैं। उससे किसी कारणवश विवाह न हो पाने से वह दिल ही दिल दुःखी होती रहती है। जब उसका विवाह किसी अन्य पुरुष के साथ हो जाता है तो वह उसे अपनी जिंदगी में पसंद नहीं कर पाती। इसलिए ही वह पति के साथ सेक्स क्रिया के समय एकदम ठंडी पड़ी रहती है। इस स्थिति में वह अपना शरीर तो पति को सौंप देती है लेकिन मन उसका अपने पुराने प्रेमी के पास ही रहता है। बहुत से लोगों का यह विचार है कि शादी के बाद स्त्रियों की ऐसी समस्या खत्म हो जाती है और अपने पुराने प्रेमी को भुला देती है लेकिन कुछ स्थिति में ऐसा भी देखा गया है कि समस्या ठीक न होकर बढ़ जाती है। कुछ मामले में तो ऐसा भी देखा गया है कि लड़कियां आत्महत्या कर लेती हैं या अपने प्रेमी के साथ अवसर पाकर शर्मों हया को छोड़कर भाग जाती हैं। बहुत सी स्त्रियां तो ऐसी भी होती हैं जो मानसिक रूप से कभी भी अपने पति को स्वीकार नहीं कर पाती हैं। इस समस्या के बारे में बहुत से चिकित्सकों का यह भी कहना है कि बहुत सी स्त्रियां तो ऐसी भी हैं जो अपने प्रेमी से इतना अधिक प्यार करती हैं कि किसी अन्य पुरुष के साथ शादी होने के बाद पहली रात को पति द्वारा सेक्स करने को बलात्कार समझती हैं और वह उसका विरोध करती हैं। जो इस तरह की स्थिति से समझौता नहीं कर पाती वह हालात से समझौता कर लेती हैं लेकिन फिर भी सेक्स के बारे में कामोत्तेजना कम होने का शिकार हो जाती हैं।
4. बहुत सी स्त्रियों को शादी होने पर यह पता चलता है कि उसका पति अनाड़ी है, उसे सेक्स के बारे में कुछ भी नहीं पता। इस कारण से जब वह अपने पति से सेक्स क्रिया करना चाहती है तो उसका पति ठीक ढंग से उससे सेक्स नहीं कर पाता और वह सेक्स के सुख से अतृप्त रह जाती है। जब पति को उसके द्वारा कई बार समझाने के बाद भी कोई परिणाम नहीं निकलता तो उसके मन में धीरे-धीरे सेक्स क्रिया के प्रति अरुचि उत्पन्न होने लगती है। यहां तक कि उनके दम्पति जीवन में क्लेश होना भी शुरू हो जाता है। जिसके कारण कभी-कभी तो यह देखा गया है कि वे तलाक लेने के लिए मजबूर हो जाते हैं या एक-दूसरे से अलग-अलग रहने लगते हैं। वैसे यह भी देखा गया है कि बहुत सी स्त्रियां सेक्स के बारे में कुछ बोल नहीं पाती हैं। इस स्थिति में पति भी उसे सेक्स सुख दे नहीं पाता जिसके कारण से उसके मन में सेक्स के प्रति अरुचि उत्पन्न होने लगती है और वह कामोत्तेजना कम होने का शिकार हो जाती हैं।
5. बहुत सी स्त्रियों को जब यह पता चलता है कि उसका पति नपुंसक है तो उन्हें बहुत अधिक दुःख होता है। इस कारण से जब उसे सेक्स का सुख नहीं मिल पाता तो वह चोरी-छिपे किसी अन्य पुरुष को ढूढ़ती है जो उसे सेक्स का सुख दे सकें लेकिन जब उसे कोई अन्य पुरूष भी नहीं मिलता तो अपने पति को बहुत अधिक कोसती है और उनके दम्पति जीवन में भी कलह होने लगता है। इन सब करणों से उसके मन में सेक्स के प्रति नाराजगी उत्पन्न होने लगती है और अंत में वह हालात से समझौता कर लेती है तथा कामोत्तेजना का शिकार हो जाती है।
6. बहुत सी स्त्रियां ऐसी होती हैं जो गर्भधारण नहीं करना चाहती हैं, वे गर्भधारण करने से डरती हैं, जिसके कारण से वे कामशीलता का शिकार हो जाती हैं। इन स्त्रियों को गर्भधारण से इसलिए डर लगता है कि उससे शरीर तथा चेहरा खराब हो जाता है। उनके मन में यह विचार होता है कि गर्भधारण होने के बाद स्त्री का शरीर बेडौल हो जाता है तथा बच्चे को स्तनपान कराने से स्तन में ढीलापन आ जाता है। इसी भय के कारण से वह पति के साथ भी सेक्स करने से डरती है तथा इस रोग से पीड़ित हो जाती है। उनका यह विचार पूरी तरह से गलत है क्योंकि शादी के बाद सेक्स क्रिया का आनन्द लेकर भी यदि वह अपने खान-पान तथा व्यायाम के द्वारा शरीर को स्वस्थ्य तथा सुन्दर रख सकती है।
7. स्त्रियों की कमशीतलता होने के लिए कुछ ऐसी भी परिस्थितियां उत्तरदायी हो सकती हैं जिसमें पति तथा परिवार के सदस्य उसे दुःखी और प्रताड़ित करते हैं। कई बार तो ऐसा भी देखा गया है कि पुरुष अपनी इच्छा के खिलाफ और परिवार वालों के दबाव के कारण से शादी कर लेता है। लेकिन वह अपनी पत्नी के साथ सेक्स क्रिया नहीं करता या उससे सेक्स क्रिया तो करता है पर मन से उसे स्वीकार नहीं करता है। संभोग क्रिया के समय में वह अपनी मन की नफरत को इतनी बेरहमी से उजागर करता है कि उससे पत्नी नफरत करने लगती है। इस कारण से उसके मन में सेक्स के प्रति अरुचि उत्पन्न होने लगती है।
8. कई बार तो परिवार वाले ठीक प्रकार से रिश्ता देखे बिना शादी कर देते हैं। लेकिन यदि लड़के के परिवार वाले दहेज के लालची होते हैं तो वे लड़की को सताने लगते हैं, जिसके कारण से भी स्त्री में सेक्स के प्रति उत्तेजना में कमी होने लगती है। कभी-कभी तो स्त्री के सामने ऐसी स्थिति भी आ जाती है कि लड़के घर वाले उसे ताने तथा जली-कटी बातें सुनाने लगते हैं। इस स्थिति में पति भी अपने घर वालों का साथ देता है तथा पत्नी को प्रताड़ित करता है, कई बार तो स्थिति ऐसी भी उत्पन्न हो जाती है कि या तो परिवार वाले उसकी हत्या कर देते हैं या वह खुद आत्महत्या कर लेती हैं या हालात से समझौता कर लेती हैं। आमतौर पर यह देखा गया कि जो स्त्रियां ऐसी स्थिति में हालात से समझौता कर लेती हैं तथा उनके साथ लगातार ऐसा व्यवाहार होते रहते हैं जिसके कारण से उनका दिल बुझा-बुझा सा रहता है। इन सब कारणों का सबसे ज्यादा प्रभाव उसके सेक्स जीवन पर पड़ता है। वैसे देखा जाए तो मन और तन जब उमंग तथा प्रसन्न चित्त होता है तो ही सभी प्रकार का सुख अच्छा लगता है। इसलिए जब स्त्री के तन और मन पर इस प्रकार के तानों का घाव तथा पति, परिवार वाले के सतायें जाने का दुःख हो जाता है तो उसका मन सेक्स के प्रति बिल्कुल उदास रहने लगता है।
9. कई बार तो यह भी स्थिति देखने को मिलती है कि किसी-किसी स्त्री का पति शराबी होता है जिसके कारण से वह अपनी पत्नी को सेक्स का आनन्द नहीं दे पाता और इस कारण से उसकी पत्नी को कामशीतलता का रोग हो जाता है। कई पुरुष तो ऐसे होते हैं जो कई प्रकार के नशा करते हैं जिनसे उनके शरीर में सेक्स के प्रति उत्तेजना कम हो जाती है और अपनी पत्नी को इसका सुख नहीं दे पाते। बहुत से तो ऐसे पुरुष भी होते हैं जो तम्बाकू, गुटखा, शराब पीना, चरस, भांग तथा हेरोइन का सेवन करते हैं। इस कारण से उनके मुंह से बदबू आती रहती है और जब वे अपनी पत्नी से संभोग क्रिया करना चाहते हैं तो इससे स्त्री को बहुत अधिक परेशानी होती है । इसे रोकने तथा विरोध करने और समझाने बुझाने से भी जब यह सब ठीक नहीं होता या स्थिति में कोई परिवर्तन नहीं होता तो उसे सेक्स क्रिया से नफरत होने लगती है। उसके शरीर के अन्दर से सेक्स की उत्तेजना खत्म हो जाती है।
10. जब किसी स्त्री को सेक्स संबंधों के प्रति अरुचि उत्पन्न होने लगती है तो स्त्री में शीतलता आ जाती है। लेकिन शादी के बाद जैसे-जैसे दिन बीतने लगते हैं और सेक्स क्रिया का आनन्द लेने के बाद जब दम्पति बच्चेदार हो जाते हैं तो इन दम्पतियों पर घर की जिम्मेदारियां इतनी अधिक बढ़ जाती हैं कि उन्हें आपस में सेक्स करने का समय ही नहीं मिलता। ऐसी स्थिति में पुरुष अधिकतर सेक्स को विशेष महत्व नहीं देते तथा अपने शरीर का बिल्कुल भी ध्यान नहीं देते हैं, शरीर की साफ-सफाई भी ठीक ढंग से नहीं करते, दाढ़ी भी बढ़ा लेते हैं और उन्हें जब भी इच्छा होती है वैसे ही हालत में अपनी पत्नी से सेक्स करने के लिए चालू हो जाते हैं। वह न ही स्थान, न ही पंलग, न ही स्थितियां, किसी का भी ख्याल नहीं करते और अपनी पत्नी से सेक्स करने लगते हैं, जिसके कारण से पत्नी सेक्स के प्रति बोरियत महसूस करने लगती है। उसमें सेक्स क्रिया के प्रति कम उत्तेजना होने लगती है।
11. स्त्रियों के सामने कभी-कभी ऐसी परिस्थितियां उत्पन्न हो जाती हैं कि उनका पति उनसे यौन संबंध न करके गुदामैथुन या मुखमैथुन ही करता है। बहुत सी स्त्रियों को इससे घृणा महसूस होती है जिसके कारण से वे किसी प्रकार की उत्तेजना भी महसूस नहीं करती है। इसके अलावा उनका पुरुष जब उनसे जबर्दस्ती मनमानी करता है या जबरदस्ती गुदामैथुन करता है या मुखमैथुन करता है जिसके कारण से स्त्री के मन में अपने पति के प्रति बहुत अधिक घृणा महसूस होने लगती है। इसके अतिरिक्त उसके अंदर सेक्स की इच्छा भी खत्म होने लगती है जिसके कारण से उसे शीतलता का रोग हो जाता है।
12. कई बार तो परिवार में अधिक धार्मिक माहौल तथा अंधविश्वास होने के कारण से भी स्त्री में शीतलता का रोग हो सकता है। उनके इस रोग के होने का सबसे ज्यादा जिम्मेदार उसके परिवार वाले ही होते हैं क्योंकि उस परिवार में वह अधिक पूजा-पाठ में लीन रहती है, सप्ताह में एक-दो दिन व्रत रखती है और सेक्स से दूर रहना ही पसंद करती है। यदि उसका पति उससे सेक्स क्रिया करने के लिए जोर जबर्दस्ती करता है तो वह तैयार नहीं होती, जिस दिन वह व्रत रखती है, उस दिन तो वह बिल्कुल ही तैयार नहीं रहती। स्त्री इसे पाप समझकर इससे नफरत करने लगती है और उसके मन में सेक्स के प्रति धीरे-धीरे भावना कम होने लगती है। इस समय यदि कोई विशेष घटना हो जाती है तो वह इसे इस पाप का ही फल समझ बैठती है जिसके कारण वह सेक्स से पूरी तरह नफरत करने लगती है। इस कारण से उसके शरीर में सेक्स उत्तेजना भी खत्म हो जाती है और वह शीतलता का शिकार हो जाती है।
13. कुछ स्त्रियां तो ऐसी भी होती हैं जिनमें सेक्स के प्रति उत्तेजना ही नहीं होती है और उनके मन में सेक्स के प्रति उमंग और उत्साह की कमी हो जाती है। वह सेक्स क्रिया को केवल बच्चा पैदा करने की क्रिया ही मानती हैं तथा वह यह समझती हैं कि जब बच्चा पैदा हो जाए तो इसे करना बेकार है। उसे सेक्स के चरमसुख के बारे में कुछ भी ज्ञान नहीं होता है और न ही किसी प्रकार की इस क्रिया में जोश दिखाती है तथा इसके बारे में जानने का कुछ भी प्रयास करती है। ऐसी स्त्री के साथ यदि पुरुष जबर्दस्ती सेक्स करता रहता है तो वह इस क्रिया से इस कदर नफरत करने लगती है कि उसके शरीर से कामशीलता पूरी तरह से खत्म हो जाती है।
14. बहुत से स्त्रियों में सेक्स की उत्तेजना बिल्कुल भी नहीं होती है लेकिन उसके शरीर में पति-धर्म कूट-कूटकर भरा रहता है, इसलिए उसमें सेक्स उत्तेजना न होने के बावजूद भी वह पति से इस क्रिया के विषय में विरोध नहीं करती है। जैसा उसका पति चाहता है वैसा ही उसके साथ करता है, जिसके कारण से उसमें सेक्स के प्रति बची-खूची उत्तेजना भी खत्म हो जाती है।
15. कुछ स्त्रियों को सेक्स के प्रति बिल्कुल भी ज्ञान नहीं होता है, वे अपने मन में कई भम्र पाल के रखती हैं। ऐसी स्त्रियां कभी-कभी यह सोचती रहती हैं कि अधिक सेक्स करने से पुरुष के शरीर में कमजोरी आ जाती है। इसलिए वह अपने पति को सेक्स करने से मना करती हैं। ऐसा करते-करते जब उसे कई दिन हो जाता है तो उसके मन में सेक्स के प्रति क्रोध पनपने लगता है जिसके कारण उसके शरीर में सेक्स की उत्तेजना कम होने लगती है। ऐसी स्त्री से जब सेक्स किया जाता है तो वह उस समय किसी प्रकार की प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं करती और चुप-चाप पुतले के समान बिस्तर पर पड़ी रहती है।
16. बहुत-सी स्त्रियां तो ऐसी होती हैं जो ममता और घर के कामों के बोझ के कारण से इतना अधिक दब जाती हैं कि उनमें सेक्स के प्रति इच्छा ही समाप्त हो जाती है। वह घर के काम-काज और मानसिक बोझ से इतनी अधिक थक जाती है कि पति उसके साथ सेक्स क्रिया करता है तो थकावट के कारण से सेक्स क्रिया में बिल्कुल भी भाग नहीं लेती। जब यही प्रक्रिया कुछ दिनों तक लगातार चलता रहता है तो उसके मन से सेक्स के प्रति उत्साह नहीं रहता है जिस कारण से उसके शरीर में सेक्स शीतलता आ जाती है।
17. कुछ स्त्रियों को छोटी उम्र में बलात्कार होने का कारण से सेक्स क्रिया से डर लगने लगता है। जिस समय उनके साथ बलात्कर होता है उस समय तो उनके शरीर का बिल्कुल भी विकास नहीं हो पाता और ऐसी स्थिति में बलात्कार का डर तथा वह मंजर उसके मन में बैठ जाता है। इस बलात्कार की तस्वीर उसके मन में बैठ जाती है। धीरे-धीरे जब वह बालिग हो जाती है तो उसकी शादी होने का बाद जब उसका पति उससे सेक्स क्रिया करने का प्रयास करता है तो बलात्कार की तस्वीर उसे याद आने लगती है जिसके कारण से उसके शरीर में कम्पन पैदा होने लगता है तथा शरीर पूरा ठंडा पड़ा रहता है।
18. कुछ स्त्रियां तो छोटी उम्र में इतनी नादान होती हैं कि सेक्स उत्तेजना की भावनाओं में बहकर सेक्स संबंध बनाने की भूल कर बैठती हैं। यह सेक्स संबंध वह इसलिए बना लेती हैं कि उसका साथी मित्र उसे यह आश्वासन देता है कि मैं तुमसे शादी कर लूंगा, मैं तुम्हें मरते जन्म तक साथ दूंगा, हमें कोई भी जुदा नहीं कर सकता है क्योंकि हम एक-दूसरे के लिए ही बने हैं। इसी कारण से वह स्त्री बहकावे में आकर उस पुरुष से सेक्स संबंध बना लेती है और गर्भवती हो जाती है। जब ऐसी स्थिति आ जाती है तो पुरुष उससे विवाह करने से मना कर देता है। जब यह बात लड़की के माता-पिता को पता चलता है तो वे अपनी लड़की को बहुत अधिक मारते-पीटते तथा डाटते हैं और यह भी कहते हैं कि तूने तो हमारे खानदान की नाक कटवा दी। इस स्थिति में लड़की को इतना अधिक मानसिक आघात होता है कि वह पुरुषों से नफरत करने लगती है। इतना ही नहीं उसके माता-पिता जल्दी-जल्दी में उसकी शादी किसी और लड़के से तय कर देते हैं। इस स्थिति में लड़की जो पुरुष से नफरत करती है, उससे उसका पति जब सेक्स क्रिया करता है तो वह पुतले के समान चुप-चाप पड़ी रहती है क्योंकि इस समय उसके अन्दर की सेक्स भावाना मर चुकी होती है।
19. कई बार तो यह भी देखा गया है कि कई स्त्रियां शादी करके सुखपूर्वक जीवन व्यतीत करती हैं लेकिन जब उसका पति उससे दूर होता है या कुछ समय के लिए उसे छोड़कर चला जाता है तो उस समय यदि कोई उसका बलात्कार कर देता है तो इस स्थिति में उसे गहरी चोट पहुंचती है और सदमे में खो जाती है। उसके अन्दर की सेक्स भावना खो जाती है तथा कमशीतलता का दोष उसके अन्दर विकसित हो जाता है।
20. पति-पत्नी यदि सुखपूर्वक जीवन व्यतीत कर रहे हों और किसी कारण से उसके पति को यौन दुर्बलता हो जाए या किसी दुर्घटना के कारण से वह अपनी पत्नी को सेक्स सुख देने में असमर्थ हो गया हो तो इस स्थिति में उसकी पत्नी कभी भी चरमानन्द प्राप्त नहीं कर पाती है। इतना होने के बावजूद अपनी दुर्बलता का इलाज करवाने को प्रेरित करती हैं लेकिन कई बार उसका पति यह मानने के लिए तैयार नहीं होता है क्योंकि यौन कमजोरी से वह ग्रस्त होता है। ऐसी स्थिति में जब वे दोनों एक-दूसरे के साथ सेक्स संबंध बनाते हैं तो पति की उत्तेजना तुरंत ही शांत हो जाती है। स्त्री बिस्तर पर इस प्रकार से छटपटाती रहती है जैसे पानी के बिन मछली छटपटाती रहती है। जब यह स्थिति स्त्री के साथ प्रतिदिन होने लगती है तो उसे सेक्स से नाराजगी होने लगती है। कई बार तो यह भी देखा गया है कि वह पुरुष को ज्यादा जोर देकर इलाज करने को कहती है तो वह उस पर उल्टा गुस्से में चिल्लाने लगता है और उल्टा उस पर कई आरोप लगा देता है। वह अपनी कमजोरी को छिपाने के लिए कई बार तो यह भी कह देता है कि तुझमें कोई दोष है। इस प्रकार की बातों को सुनकर वह शारीरिक तथा मानसिक दोनों रूप से सेक्स से नाराज रहती है। वह मन में यह भी सोचती है कि उनको मेरा कुछ भी ख्याल नहीं, वे केवल मुझे उपभोग का केवल एक वस्तु समझते हैं, उन्हें मेरी सुख से कोई मतलब नहीं है और न ही मेरी कोई चिंता करते हैं। इस सबको देखते हुए वह अपने आप को स्थितियों के अनुसार ढा़ल लेती है जिसके कारण से उसकी इच्छाएं और संवेदनाएं समाप्त हो जाती हैं।
21. स्त्रियों में कामोत्तेजना कम होने के कारण यदि उसे मानसिक रोग हो गया हो तो इस मानसिक रोग होने के पीछे पुरुष भी जिम्मेदार होता है क्योंकि कभी-कभी वह अपनी गलतियों को पत्नी पर ही थोपता है, अपनी गलतियों को स्वीकार तक नहीं करता। बहुत से पुरुष तो यह सोचते हैं कि सेक्स क्रिया के द्वारा आनन्द लेने में स्त्रियों का कोई लेना देना नहीं है। यह केवल पुरुषों के लिए होता है। इस कारण से वे अपनी स्त्रियों का कुछ भी ख्याल नहीं करते हैं जिसकी वजह से उनकी स्त्रियां इस रोग का शिकार हो जाती हैं।
22. पारिवारिक तथा सामाजिक संस्कारों के कारण से बहुत-सी स्त्रियां सेक्स के बारे में अपने विचारों का खुलासा नहीं कर पाती और न ही विचारों को व्यक्त ही कर पाती हैं। इसके बावजूद जब उनकी शारीरिक आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं होती है तब इसका असर सेक्स क्रिया के दौरान दिखाई पड़ता है। इन सभी करणों की वजह से ही उनमें कामशीतलता की कमी आ जाती है।

loading...

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.